Skip to main content

ख़ामोश रही मैं|

क्यूँ तुझे पाने तक,
तेरे पास आने तक,
यूँ ख़ामोश रही मैं|
लेके एहसास  तेरा,
दिल में  प्यार तेरा,
यूँ  ख़ामोश रही मैं |
अजनबी परछाई थी ,
अश्क आँखों में लिए,
तेरी याद बहुत आई थी,
याद लिए तेरी दिल में,
यूँ ख़ामोश रही मैं|
जब से तू चला गया,
तेरी वो महक तब से,
इस तन में समायी थी,
तू समा जाये मुझमें ,
मैं समाऊं तुझमे,
ये सोच आज तक ,
यूँ ख़ामोश रही मैं|
जैसे  तेरे आने की,
दिल को आहट थी |
- दीप्ति शर्मा 

Comments

prashant said…
teri khamoshi teri kalam ke shor me najar aati hai
abhi waqt bahut hai deepti isi tarah se sohrat payi jaati hai.
अजनबी परछाइयों के बिछोड़े... वाह !

Popular posts from this blog

जन्मदिन

आज मेरी प्यारी बहिन का जन्मदिन है और मैं बहुत खुश हूँ ,, मेरी तरह से उसे ढेरो शुभकामनाये ,,, कृपया आप भी अपना बहुमूल्य आशीर्वाद उसे प्रदान करें |

आज जन्मदिवस पर तेरे ,
ओ मेरी प्यारी बहिन
दुलार करते हैं सभी
प्यार करते हैं सभी

हजार ख्वाहिशें जुडी हैं
माँ पापा की तुझसे
रौशन है ये आँगन तुझसे
कह दे तू ये आज मुझसे
न दूर हो हम कभी भी
अब एक दूजे से

जफ़र पा ओ मेरी बहिन
घर जल्दी आना तू अबकी
आँखों का तारा हैं तू सबकी

तेरा सपना सच हो जाये
हर ख्वाहिश पूरी हो जाये
जन्मदिन पर मिले तुझे
सबका इतना आशीष
की हर बाला आने से
पहले ही टल जाये

जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो प्रीती .

- दीप्ति शर्मा

शोषित कोख

उस बारिश का रंग दिखा नहीं
पर धरती भींग गयी
बहुत रोई !
डूब गयी फसलें
नयी कली ,
टहनी टूट लटक गयीं
आकाश में बादल नहीं
फिर भी बरसात हुई
रंग दिखा नहीं कोई
पर धरती
कुछ सफेद ,कुछ लाल हुई
लाल ज्यादा दिखायी दी
खून सी लाल
मेरा खून धरती से मिल गया है
और सफेद रंग
गर्भ में ठहर गया है,
शोषण के गर्भ में
उभार आते
मैं धँसती जा रही हूँ
भींगी जमीन में,
और याद आ रही है
माँ की बातें
हर रिश्ता विश्वास का नहीं
जड़ काट देता है
अब सूख गयी है जड़
लाल हुयी धरती के साथ
लाल हुयी हूँ मैं भी।
-- दीप्ति शर्मा
मन से निकली,
मन तक पहुँची,
वो अनकही बात,
पर कैसे?
आँखों से पगली,
अब समझी ना !