Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2012

ए बसंत तेरे आने से

ए बसंत तेरे आने से
नाच रहा है उपवन
गा रहा है तन मन
ए बसंत तेरे आने से ।खेतों में लहराती सरसों
झूम रही है अब तो
मानो प्रभात में जग रही है
ए बसंत तेरे आने से ।चिड़िया भी चहकती है
भोर में गीत गाती है
घर में खुशियाँ आती हैं
ए बसंत तेरे आने से ।खिल गयी सरसों
बिखर गयी खूशबू
मनमोहक हो गया नज़ारा
ए बसंत तेरे आने से ।
,,,"दीप्ति शर्मा "

मुझे अच्छा लगेगा

सुबह की रोशनी की तरह मुस्कुराओ सदा,
जिंदगी की महफ़िल में साथ दो मेरा,
मुझे अच्छा लगेगा ।
ना हो खफा बस खिलखिलाओं सदा,
दिल में प्यार जगाओ,
तुम मुझे अपना बनाओ,
मुझे अच्छा लगेगा ।
दिल में मेरे बस भी जाओ,
इतराकर शरमाकर मेरी
बाँहों में तुम आ भी जाओ,
कह दो चाहत भरी दो बातें,
मुझे अच्छा लगेगा ।
,,," दीप्ति शर्मा "

हर लम्हा है तुम्हारा, इसे अपनाकर तो देखो । तन्हा हो कभी तो हमें याद करके दिल में बसाकर तो देखो । हम लगेंगे तुम्हें अपने हमसे ऩजरे मिलाकर तो देखो । याद करो ना करो हम तुम पर मरतें हैं एक बार आज़माकर तो देखो । इस दिल ने तुम्हें चाहा है ये दिल है तुम्हारा इसे अपना बनाकर तो देखो । तुम दिवाने हो जाओगे हमारे बस एक बार हमसे हाथ मिलाकर तो देखो । इधर हाथ बढ़ाकर तो देखो । ,,, " दीप्ति शर्मा "

बातें उसकी दिल तडपाने लगी हैं, 
यादें उसकी दिल जलाने लगी हैं ।
मुश्किल से ही सही पर अब, 
याद उसकी दिल से जाने लगी है ।
ख़ामोशियाँ लवों पर छाने लगी हैं ।
तंहाईयाँ दिल में समाने लगी हैं ।
मेरी आँखें आँसू बहाने लगी हैं ।
ऎसा लगता है जाने से उसके,
दिल की धड़कन भी अब,
साथ छोड़ मेरा जाने लगी है ।
,,,,," दीप्ति शर्मा "

मैं रुक गयी होती

जब मैं चली थी तो
तुने रोका नहीं वरना
मैं रुक गयी होती |
यादें साथ थी और
कुछ बातें याद थी
ख़ुशबू जो आयी होती
तेरे पास आने की तो
मैं रुक गयी होती |
सर पर इल्ज़ाम और
अश्कों का ज़खीरा ले
मुझे जाना तो पड़ा
बेकसूर समझा होता तो
मैं रुक गयी होती |
तेरे गुरुर से पनपी
इल्तज़ा ले गयी
मुझे तुझसे इतना दूर
उस वक़्त जो तुने
नज़रें मिलायी होती तो
मैं रुक गयी होती |
खफा थी मैं तुझसे
या तू ज़ुदा था मुझसे
उन खार भरी राह में
तुने रोका होता तो शायद
मैं रुक गयी होती |
बस हाथ बढाया होता
मुझे अपना बनाया होता
दो घड़ी रुक बातें
जो की होती तुमने तो
ठहर जाते ये कदम और
मैं रुक गयी होती |
_------ "दीप्ति शर्मा "





ये आँखें

कभी अनमोल मोतियों को गिरा देती हैं | तो कभी बहुत कुछ  अपने में छुपा लेती हैं , ये आँखें |    -- " दीप्ति शर्मा "

अब क्या करना है |

इत्मिनान से जी लूँ
लिख लूँ कुछ नगमें
जो ज़ज्बात से भरें हों
फिर सोचूँगी की मुझे
अब क्या करना है |

गढ़ लूँ कुछ नये आयाम
सततबढूँ दीर्घ गूंज से
ले मैं रुख पर नकाब
फिर सोचूँगी की मुझे
अब क्या करना है |

स्मरण कर उन्मुक्त स्वर
स्वछन्द गगन में टहलूं
सहजभाव से स्मृतियों में
कुछ ख्यालों को छुला लूँ
फिर सोचूँगी की मुझे
अब क्या करना है |

महसूस कर लूँ एहसास
तेरे यहाँ आने का
बरस जाये बरखा
सावन भर आये और
तुझसे मिलन हो जाएँ
फिर सोचूँगी की मुझे
अब क्या करना है |
--- दीप्ति शर्मा