Skip to main content

Posts

रोटी सिकने के दौरान,
चूल्हे में राख हुई लकड़ी का दर्द
कोई नहीं समझता,
बस दिखता है तो
रोटी का स्वाद।
( #जिन्दगी का सच )
Recent posts

वो रेल वो आसमान और तुम

रेल में खिडकी पर बैठी
मैं आसमान ताक रही हूँ
अलग ही छवियाँ दिख रही हैं हर बार
और उनको समझने की कोशिश
मैं हर बार करती
कुछ जोड़ती, कुछ मिटाती
अनवरत ताक रही हूँ
आसमान के वर्तमान को या
अपने अतीत को
और उन छवियों में
अपनों को तलाशती
मैं तुम्हें देख पा रही हूँ
वहाँ कितने ही पेड़,
बेंच, कुआँ, सड़क, नाला,पहाड़
निकलते चले जा रहे हैं
इन्हें देख लगता है
इस भागती जिदंगी में
कितने साथ छूटते चले गये
मन के कोने में कुछ याद तो है ही
अब चाहे अच्छी हो ,बुरी हो
और मैं उन्हें ढोती ,रास्ते पार करती
तुम्हें खोज रही हूँ
बहुत बरस बाद आज ,
मन के कोने  से निकल दिखे हो
वहाँ बादलों की छवियों में
और मैं तुम्हें निहार रही हूँ।
यादों की नदी,बातों का झरना
सदियों से साथ बहते,झरते
पर अब झरना सूख गया,
नदी का वेग तीव्र हो गया,
जिसमें कश्तियाँ भी डूब जाती हैं।
(बस यूँ ही ,जिंदगी सच)
# हिन्दी_ब्लॉगिंग

शोषित कोख

उस बारिश का रंग दिखा नहीं
पर धरती भींग गयी
बहुत रोई !
डूब गयी फसलें
नयी कली ,
टहनी टूट लटक गयीं
आकाश में बादल नहीं
फिर भी बरसात हुई
रंग दिखा नहीं कोई
पर धरती
कुछ सफेद ,कुछ लाल हुई
लाल ज्यादा दिखायी दी
खून सी लाल
मेरा खून धरती से मिल गया है
और सफेद रंग
गर्भ में ठहर गया है,
शोषण के गर्भ में
उभार आते
मैं धँसती जा रही हूँ
भींगी जमीन में,
और याद आ रही है
माँ की बातें
हर रिश्ता विश्वास का नहीं
जड़ काट देता है
अब सूख गयी है जड़
लाल हुयी धरती के साथ
लाल हुयी हूँ मैं भी।
-- दीप्ति शर्मा
मन से निकली,
मन तक पहुँची,
वो अनकही बात,
पर कैसे?
आँखों से पगली,
अब समझी ना !

आहट

घने कोहरे में बादलों की आहट
तैरती यादों को बरसा रही है
देखो महसूस करो
किसी अपने के होने को
तो आहटें संवाद करेंगी
फिर ये मौन टूटेगा ही
जब धरती भीग जायेगी
तब ये बारिश नहीं कहलायेगी
तब मुझे ये तुम्हारी आहटों की संरचना सी प्रतीत होगी
और मेरा मौन आहटों में
मुखरित हो जायेगा।© दीप्ति शर्मा

माँ

ये वो माँ है जिसके सारे बच्चे अच्छे पद व रुतबे,
कोठी व कार वाले हैं
ये वो माँ है जिसने दो रुपये की खादी की साड़ी पहन बच्चों को  अच्छे कपड़े पहनाये
ये वो माँ है जो खुद भूखी रही पर बच्चों का पेट भरा
खुद के बच्चों का पालन सब करते हैं
ये वो माँ है जिसने अपने बच्चों के साथ दूसरे बच्चे भी पाले उनकी भी शादियाँ करायी
ये वो माँ है जो आज तरसती है
दो रोटी के लिए
ये वो माँ है जो परेशान है अपनों के दिए दर्द से
ये वो माँ है जो अकेली है सबके होते एकदम अकेली
ये वो माँ है जो छुप गयी है चेहरे की झुर्रीयों में
ये वो माँ है जिसके सफ़ेद बालों ने अँधेरा होने का अहसास कराया है
हाँ ये वही माँ है जिसके कँपते हाथ अब तुम्हारे काम नहीं आते
वही माँ है यह जिसकी बूढ़ी आँखें अब तक बच्चों का रास्ता तक रही हैं
जो बंद होने से पहले कुछ मोहलत लिए हुए एकटक खुली रह गयी हैं