जो गीत हरदम गुनगुनाये
अक्सर हम उन्हें समझ ना पाये
फिर भी गाते रहे गुनगुनाते रहे
चाहे वो गीत अपने हो या पराये
© दीप्ति शर्मा

Comments

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं