कब तक आबरू अपनी खोयेगी
हैवानियत पर फूट फूटकर रोयेगी
शरम करो नौजवानों, रहते तुम्हारे
कब तक वो नारी काल के गाल में सोयेगी??
© दीप्ति शर्मा

Comments

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं