वो प्रेम की है अनुभूति
उसमें आस है
विश्वास है
जो पनपती है
प्रज्वलित हो लौ की तरह.
©दीप्ति शर्मा


Comments

बहुत सुन्दर एहसास....

अनु
प्रेम प्रकृति का संवाहक होता है..
दुआ करेंगे की ये लौ कभी कम ना हो

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं