तुम


मैंने तुम्हारे पसन्द की
चूल्हे की रोटी बनायी है
वही फूली हुयी करारी सी
जिसे तुम चाव से खाते हो
और ये लो हरी हरी
खटाई वाली चटनी
ये तुम्हें बहुत पसन्द हैं ना !!!
पेट भर खा लेना
और अपने ये हाथ
यहाँ वहाँ ना पौछना
मैंने अलमारी में
तुम्हारी पसन्द के सफेद
बेरंगे रूमाल रख दिये हैं
ले लेना उन्हें....
सब रंग बिरंगे रूमाल
हटा दिये हैं वहाँ से
वो सारे रंग जो तुम्हें पसन्द नहीं
अब वो दूर दूर तक नहीं हैं
तुम खुश तो हो ना??
सारे घर का रंग भी
सफेद पड़ गया है
एकदम फीका
बेरंगा सा...
मैंने भी तो तुम्हारी पसन्द की
सफेद चुनर ओढ़ ली है
अब तो तुम मुस्कुराओगे ना??
साँझ भी हो चली अब
पंछी भी घरौंदे को लौटने लगे
तुम कहाँ हो??
आ जाओ!!
मैं वहीं आँगन में
नीम के पेड़ के नीचे
उसी खाट पर बैठी हूँ
जो तुमने अपने हाथों से बुनी थी
कह कर गये थे ना तुम
कि अबकि छुट्टीयों में आओगे
वो तो कबकि बीत गयी
तुमने कहा था
मैं सम्भाल कर रखूँ
हर एक चीज तुम्हारी पसन्द की
देखो सब वैसा ही है
तो तुम आते क्यों नहीं
क्यों ये लोग तुम्हारी जगह
ये वर्दी, ये मेडल, रूपये दे रहें हैं
पर मैं तो तुम्हें माँग रही हूँ
क्यों नहीं आते
तुम आ जाओ ना!!!!
© दीप्ति शर्मा

Comments

Kailash Sharma said…
बहुत भावमयी मर्मस्पर्शी रचना..
बि‍छड़ने का दर्द
वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/
वाह बहुत खूब
travel ufo said…
प्रिय ब्लागर
आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

welcome to Hindi blog reader

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं