सरबजीत की याद में

हिरासत में था
कई सालों से
यातनाओं से घिरा
न्याय की आस लिए
मैं जासूस नहीं
आम इन्सान था
जो गलती कर बैठा
ये देश की सीमायें
नहीं जानी कभी
सब अपना सा लगा पर
बर्बरतापूर्ण व्यवहार जो किया
वो कब तक सहता
आज़ाद हो लौटना था मुझे
अपने परिवार के पास
पर वो जेहादी ताकतें
मुझ पर हावी थीं
नफरत का शिकार बना
और क्रूरता के इस खेल में
मुझे अपनी सच्चाई की कीमत
जान देकर चुकानी पड़ी ।
सुनो मैं अब भी कहता हूँ
मैं जासूस नहीं था
पर  अपने ही देश ने मुझे
बेसहारा छोड़ दिया था
उस पडोसी देश की जेल में
परिवार से दूर कितनी ही यातनायें सहीं
बार बार हमले हुए
पर आख़िरकार इस बार
मैं हार गया
नहीं जीत पाया
मैं हार गया ।

Comments

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं