निशान



किसी एक जगह पर 
निशान पड़ गये हैं 
मैं तो सीमा पर खड़ी हूँ 
और धसते जा रहें हैं पैर 
बन्दुक की नोक पर 
या सीमा से दलदल पर 
ना जाने
रेत पर भी पक्के निशान 
कैसे पड़ जाते हैं
-दीप्ति शर्मा


Comments

Shalini kaushik said…
VERY NICE EXPRESSION DEEPTI JI .
वाह बहुत खूब

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं