एक दरियाफ्त की थी
 कभी ईश्वर से
दे दो मुट्ठी भर आसमान
आज़ादी से उड़ने के लिए
और आज उसने
ज़िन्दगी का पिंजरा खोल दिया
और कहा ले उड़ ले .।

- दीप्ति शर्मा


Comments

Anonymous said…
nice
Kailash Sharma said…
बहुत खूब!
dr.mahendrag said…
aisha hi hota hae,jo n socho wah ho jata hae.

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?