गुज़र गया जो वक़्त अब 
हम उसकी बात नहीं करते 
ज़ख्म सीले हैं आँसूओं से अब 
हम उनसे मुलाकात नहीं करते 
- दीप्ति शर्मा 


Comments

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं