छोटी पत्तियाँ


उन छोटी पत्तियों पर 
गिर जाती है ओस
कोहरा सूखा देता है उन्हें 
और पतझड़ गिरा देता है 
शायद ये ही उनकी नियति  है ।
                                                     
- दीप्ति शर्मा



Comments

नियति तो सब के लिए है पर अलग अलग
Latest post हे माँ वीणा वादिनी शारदे !
नियतिबद्ध है प्रकृति व्यवस्था..

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?