creation 10th class
दुनिया की भीड़ से
कोई पुकार कर रहा है
ऐसा लगता है कि हमें
कोई याद कर रहा है
दिल के गुलशन को
आबाद कर रहा है
अकेले हैं दुनिया में
ये जानकर कोई
दरियाफ्त कर रहा है
साहिलों में खड़े हो
कोई लहरों पर हमारा
इंतज़ार कर रहा है ।
© दीप्ति शर्मा

Comments

Anonymous said…
nice
Deepak Saini said…
साहिलों में खड़े हो
कोई लहरों पर हमारा
इंतज़ार कर रहा है ।

वाह बहुत खूब
सदा said…
बेहतरीन प्रस्‍तु‍ति।
Anonymous said…
bahut badhia deepti

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?