रोटी सिकने के दौरान,
चूल्हे में राख हुई लकड़ी का दर्द
कोई नहीं समझता,
बस दिखता है तो
रोटी का स्वाद।
( #जिन्दगी का सच )

Comments

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?