Skip to main content

हे पार्थ !

हे पार्थ !
मैं सिंहासन पर बैठा
अपने धर्म और कर्म से
अंधा मनुष्य ,
मैं धृतराष्ट्र
देखता रहा , सुनता रहा
और द्रोपती के चीरहरण में
सभ्यता , संस्कृति
तार तार हुयी
धर्म के सारे अध्याय बंद हुए ,
तब मैं बोला धर्म के विरुद्ध
जब मैं अंधा था
पर आज
आँखें होते हुए भी नहीं देख पाता
आज सिंहासन पर बैठा
मैं मौन हूँ
उस सिंहासन से बोलने के पश्चात
हे पार्थ
सदियों से आज तक
मैं मौन हूँ।

दीप्ति शर्मा

Comments

Anonymous said…
Ӏts like you read my mind! Ƴoοu aрpear too ƙnow so much about this,
sucɦ as you wrote the e book in itt or something.
I think tthat you simply could do witɦ some percent tо power the message houxe a little
bit, however instead of that, thatt is wonderful bloǥ.
A fantaѕtic read. I will definitely be back.

Μy siye bank of baroda exam Results 2011 clerk
Anonymous said…
What's up everyone, it's my first go to see at
this web site, and paragraph is actualoy fruitful in favor of me, keep up
posting these types of articles or reviews.

My webpage axis bank gold share price
Anonymous said…
My ѕpouse and I stumbled over here different page and
thought I might as well check things out. ӏ like wҺat I see so i аmm just following you.
Look forward to looking over your web page again.

Lоoҡ into my blog pօst stock quotes
Anonymous said…
WҺen Iinitially commenteԁ I clicked the "Notify me when new comments are added" checkƅox
and now eacɦ time a comment is added I get threе emails with the same
cߋmment. Is there any way yyou can rеmove me from that serνice?
Cheеrs!

Look at my web blog; share trading softwɑre ()
Jitendra tayal said…
बहुत सुन्दर सार्थक सृजन, बधाई

Popular posts from this blog

जन्मदिन

आज मेरी प्यारी बहिन का जन्मदिन है और मैं बहुत खुश हूँ ,, मेरी तरह से उसे ढेरो शुभकामनाये ,,, कृपया आप भी अपना बहुमूल्य आशीर्वाद उसे प्रदान करें |

आज जन्मदिवस पर तेरे ,
ओ मेरी प्यारी बहिन
दुलार करते हैं सभी
प्यार करते हैं सभी

हजार ख्वाहिशें जुडी हैं
माँ पापा की तुझसे
रौशन है ये आँगन तुझसे
कह दे तू ये आज मुझसे
न दूर हो हम कभी भी
अब एक दूजे से

जफ़र पा ओ मेरी बहिन
घर जल्दी आना तू अबकी
आँखों का तारा हैं तू सबकी

तेरा सपना सच हो जाये
हर ख्वाहिश पूरी हो जाये
जन्मदिन पर मिले तुझे
सबका इतना आशीष
की हर बाला आने से
पहले ही टल जाये

जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो प्रीती .

- दीप्ति शर्मा

शोषित कोख

उस बारिश का रंग दिखा नहीं
पर धरती भींग गयी
बहुत रोई !
डूब गयी फसलें
नयी कली ,
टहनी टूट लटक गयीं
आकाश में बादल नहीं
फिर भी बरसात हुई
रंग दिखा नहीं कोई
पर धरती
कुछ सफेद ,कुछ लाल हुई
लाल ज्यादा दिखायी दी
खून सी लाल
मेरा खून धरती से मिल गया है
और सफेद रंग
गर्भ में ठहर गया है,
शोषण के गर्भ में
उभार आते
मैं धँसती जा रही हूँ
भींगी जमीन में,
और याद आ रही है
माँ की बातें
हर रिश्ता विश्वास का नहीं
जड़ काट देता है
अब सूख गयी है जड़
लाल हुयी धरती के साथ
लाल हुयी हूँ मैं भी।
-- दीप्ति शर्मा
मन से निकली,
मन तक पहुँची,
वो अनकही बात,
पर कैसे?
आँखों से पगली,
अब समझी ना !