कंकाल



शमशान में रात दिन
जलती चिताओं का
उड्ता धुँआ सबको दिखता है
पर तिल तिल जल,
मन का कंकाल बनना
किसी को नहीं दिखता ।
-- दीप्ति शर्मा


Comments

yashoda Agrawal said…
आपकी लिखी रचना मंगलवार 06 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!
दिप्ती जी , बहुत ही गहरा भाव प्रस्तुत करती आपकी बेहतर रचना , धन्यवाद !
I.A.S.I.H ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )





बहुत खूब

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?