Skip to main content

जन्मदिन

आज मेरी प्यारी बहिन का जन्मदिन है और मैं बहुत खुश हूँ ,, मेरी तरह से उसे ढेरो शुभकामनाये ,,, कृपया आप भी अपना बहुमूल्य आशीर्वाद उसे प्रदान करें |

आज जन्मदिवस पर तेरे ,
ओ मेरी प्यारी बहिन
दुलार करते हैं सभी
प्यार करते हैं सभी

हजार ख्वाहिशें जुडी हैं
माँ पापा की तुझसे
रौशन है ये आँगन तुझसे
कह दे तू ये आज मुझसे
न दूर हो हम कभी भी
अब एक दूजे से

जफ़र पा ओ मेरी बहिन
घर जल्दी आना तू अबकी
आँखों का तारा हैं तू सबकी

तेरा सपना सच हो जाये
हर ख्वाहिश पूरी हो जाये
जन्मदिन पर मिले तुझे
सबका इतना आशीष
की हर बाला आने से
पहले ही टल जाये

जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो प्रीती .

- दीप्ति शर्मा 

Comments

Anonymous said…
janmdin ki subhkamnaye
जन्म दिन की ढेरों बधाइयां...
प्रीती @ जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें
दीप्ति जी अच्छी कविता लिखी है...
हमारी ओर से भी ढेरों शुभकामनायें।
Anonymous said…
नन्हों बिट्टो
जन्म दिवस की ढेरों ढेर बधाई वा शुभ कामनाएँ
Sunil Kumar said…
सुंदर रचना के माध्यम से जन्मदिन की शुभकामनायें दी है आपने हमारी ओर से बधाई
बहुत बहुत शुभकामनाएँ।

सादर
kshama said…
Aapki bahan ko aur poore pariwaar ko uska janamdin bahut,bahut mubarak ho!
हमारी तरफ से भी बिटिया के जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें और आशीष
रेखा said…
हमारी तरफ से भी देर सारी बधाई और शुभकामनाएँ ...
सुंदर रचना।
जन्‍मदिन की शुभकामनाएं....
@दीप्ती जी, अपनी बहन के लिए देरी से ही सही मगर हमारी तरफ से जन्‍मदिवस पर ढेरों शुभकामनाएं और हार्दिक बधाई, सदैव उनका जीवन सुखमय रहे.

Popular posts from this blog

शोषित कोख

उस बारिश का रंग दिखा नहीं
पर धरती भींग गयी
बहुत रोई !
डूब गयी फसलें
नयी कली ,
टहनी टूट लटक गयीं
आकाश में बादल नहीं
फिर भी बरसात हुई
रंग दिखा नहीं कोई
पर धरती
कुछ सफेद ,कुछ लाल हुई
लाल ज्यादा दिखायी दी
खून सी लाल
मेरा खून धरती से मिल गया है
और सफेद रंग
गर्भ में ठहर गया है,
शोषण के गर्भ में
उभार आते
मैं धँसती जा रही हूँ
भींगी जमीन में,
और याद आ रही है
माँ की बातें
हर रिश्ता विश्वास का नहीं
जड़ काट देता है
अब सूख गयी है जड़
लाल हुयी धरती के साथ
लाल हुयी हूँ मैं भी।
-- दीप्ति शर्मा
मन से निकली,
मन तक पहुँची,
वो अनकही बात,
पर कैसे?
आँखों से पगली,
अब समझी ना !