ये अमावस तारीखों में दर्ज हुयी बीत जाएगी,
पर जो तुम मन में बसा लिए हो
वो अमावस कभी क्या बीत पाएगी ?
जवाब यही कि वक्त तो आने दो
वक्त भी आया और गया
पर अमावस ना खतम हुयी
देखो मन तो तुम्हारा
अँधेरी सुरंग हुआ जा रहा
बदबू साँस रोक रही
कैसे जी रहे हो तुम?
यहाँ मेरा दम घुट रहा।
#अमावसकीरात और
#तुमकोसमझतीदीप्ति

Comments

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (17-02-2017) को "कूटनीति की बात" (चर्चा अंक-2883) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
अच्छी पंक्तियाँ। बधाई
अच्छी पंक्तिया। बधाई

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?