कब कहती रूक जाऊँगी
मैं तुमको जो ना पाऊँगी
गहरे दरिया की मैं कश्ती
अकेले पार पा जाऊँगी ।
© दीप्ति शर्मा

Comments

Popular posts from this blog

बस यूँ ही

डायरी के पन्नें

मैं