तुम आओगे ना ??

अहसासों के दरमियां
मेरे ख़्वाबों को जगाने
जब तुम आओगे ना
कुछ शरामऊँगी  मैं
धडकनों को थामकर
कुछ बहक सा जाऊँगी मैं
मुझे बहकाने तुम आओगे ना ????

इठलाती सी धूप में
रूख पर नक़ाब गिराने
जब तुम आओगे ना
तेज़ किरणें शरमा जायेंगी
तुम्हारे अक्स के आ जाने से
मेरी परछाई को ख़ुद में
समाने तुम आओगे ना ????

अकेलेपन में भींगी आँखों
के आंसूओं को पोंछने 
जब तुम आओगे ना
एक मुस्कान खिल जायेगी
कुछ किस्से सुनने
भटकती इस ज़िंदगी में
मुझे अपना बनाने
आरजुओं को जगाने तुम आओगे ना ????

दो नहीं एक ही है हम
इस हौसले को बढ़ाने
जब तुम आओगे ना
चाँद की चाँदनी तेज़ हो
अपना तेज़ फैलायेगी
उसकी रौशनी मुझ तक
आकर तेरा अहसास करायेगी
अहसास कराने अपना तुम आओगे ना ????
कह दो एक बार
तुम आओगे ना ????
तुम आओगे !!!!!
दीप्ति शर्मा 

Comments

खूबसूरत अहसास
Dr Varsha Singh said…
बेहतरीन रचना ....
kshama said…
Kitni khoobsoorat rachana hai ye!
इतनी चाहत से बुलाये कोइ, भगवान भी जमीं पर उतर आये
इंसान भी जो फरिश्ता होगा ,दौड़ कर के गले समा जाए
कोई इतनी चाहत से उसे बुलाये, भगवान भी जमीं पर उतर आये !
इंसान गर वो फरिश्ता होगा , दौडकर आयेगा और गले समा जाए !!
आपने अहसासों को अच्छी तरह प्रस्तुत किया है। मेरे नवीनतम पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।
बहुत सुंदर अहसास । मेरे नवीनतम पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।र
गहरे एहसास में लिपटे शब्द ...
kshama said…
उसकी रौशनी मुझ तक
आकर तेरा अहसास करायेगी
अहसास कराने अपना तुम आओगे ना ????
कह दो एक बार
तुम आओगे ना ????
तुम आओगे !!!!!
yahee kasak,yahee tadap hoti hai jab koyi pyar karta hai....

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बताऊँ मैं कैसे तुझे ?