कोई होता

जिंदगी की विरान महफ़िलो में,
कोई उजाला तो होता |
इस  दुनिया की भीड़ में ,
मेरा कोई सहारा तो होता |
जो थाम लेता हाथ मेरा ,
कभी दुखी ना होने देता,
वो मेरे साथ साथ ,
कदम से कदम मिला ,
हर राह पे चलता ,
मेरी मंजिल वो ही होता ,
जो सिर्फ मेरा होता,
काश ऐसा भी कोई,
मेरी जिंदगी मे होता |
- दीप्ति शर्मा 

Comments

vikas chaudhary said…
the flower thats smiles today,
...........tomorrow dies.
all we wish to stay,
thempts and then flies......
so b always happy
........its very intresting
Anonymous said…
very intresting ...nice thinking .....

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बस यूँ ही