बातें उसकी दिल तडपाने लगी हैं, 
यादें उसकी दिल जलाने लगी हैं ।
मुश्किल से ही सही पर अब, 
याद उसकी दिल से जाने लगी है ।
ख़ामोशियाँ लवों पर छाने लगी हैं ।
तंहाईयाँ दिल में समाने लगी हैं ।
मेरी आँखें आँसू बहाने लगी हैं ।
ऎसा लगता है जाने से उसके,
दिल की धड़कन भी अब,
साथ छोड़ मेरा जाने लगी है ।
,,,,," दीप्ति शर्मा "

Comments

Anonymous said…
itna dard waah
अब खामोशियाँ भी गुनगुनाने लगी हैं...
sushmaa kumarri said…
बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........
dilip k. said…
wah.....great....chu..liyaa...ab dil kahan milte he....sirf dimag hi dimag he...
खूबसूरती से लिखे एहसास
गहरी भावनायें।
गहरे भाव लिए सुंदर रचना।

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बस यूँ ही