कुछ नोट्स

आज का दिन और गुन्नू
सुबह सुबह
मैं- गुन्नू गुड मॉर्निंग उठ जाओ
गुन्नू- मम्मी सोई सोई प्लीज
मैं - किसने बताया कि प्लीज भी बोलना है
'गुन्नू हँसते हुए दूसरी ओर मुँह कर लेट गया'
थोड़ी देर बाद
मुझे सफाई करते ध्यान से देख रहा, 'मैंने झाडने को बिस्तर झड़ाया है'
गुन्नू- हटो
मैं - कहाँ जाऊँ?
गुन्नू- बाये ( बाहर जाओ)🙄
मैं - अब क्या करोगे ?
गुन्नू- बाबू सोई सोई
मैं अपना माथा पकडती उसे कहानी सुनाती हूँ,
तभी अचानक बीच में उसकी कहानी शुरू
गुन्नू- मम्मी कॉउ मोओओओओ बाये हाथी , आओ माऊं बाये , गोट मेएएएए
कहानी के बीच में नमकीन की याद आ गयी
गुन्नू- मम्मी ई हाथे ( नमकीन हाथ में दो)
नमकीन लेकर थेंक ऊ बोल आगे बढ़ गये,
मैं खडी देख रही हूँ फिलहाल काम बंद है , खाना बनाना है
जब गुन्नू से बोला बेटा खाना बना लू?
गुन्नू - चाय चाय
मैं - अरे चाय तो पी ली कबकी , अब खाना
तुम क्या खाओगे?
गुन्नू-टोटी,दाय (दाल ,रोटी) बोलकर और नजदीक आते हुए सुनाई दिया मम्मी गोदी ..
मैं देख रही हूँ उसे और वो हाथ फैलाकर बोल रहा है गोदी
खाना तो बन गया 😂 लड्डू ही खाएगें आज लग रहा 😋

Comments

खूबसूरत नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ
Unknown said…
सहज अभिव्यक्ति

Popular posts from this blog

डायरी के पन्नें

मैं

बस यूँ ही